पेट साफ करने की अंग्रेजी सिरप। पेट साफ करने की आयुर्वेदिक दवा। pet saaf karne ka syrup.

पेट साफ करने की अंग्रेजी सिरप।

हेलों, दोस्तों आज हम आपको यह बताएंगे कि आप किस प्रकार से अपना पेट साफ कर सकते हैं। यदि आप भी पेट साफ करने की अंग्रेजी सिरप के बारे में जानना चाहते हैं। तो आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी के माध्यम से आसानी से जान सकते हैं। कि पेट साफ करने की अंग्रेजी सिरप के इस्तेमाल से किस प्रकार से पेट साफ किया जाता हैं। तो आइए जानते हैं, पेट साफ करने की अंग्रेजी सिरप के बारे में।

कब्ज तब होता है जब बड़ी आंत में सामान्य मांसपेशियों का संकुचन धीमा हो जाता है, जिससे शरीर से आंत्र का अधूरा निष्कासन हो जाता है। कब्ज आहार में अचानक बदलाव, कम फाइबर वाले आहार, पर्याप्त तरल पदार्थ न पीने, व्यायाम की कमी, वृद्ध लोगों में आंत की मांसपेशियों के स्वर में कमी या लंबे समय तक बिस्तर पर रहने से जुड़ा हो सकता है। 

Cremaffin syrup :- क्रीमाफिन सिरप का इस्तेमाल कब्ज के लिए क्या जाता हैं। यह एक अंग्रेजी दवा का सिरप हैं, जो कि डॉक्टरों द्वारा भी विश्वसनीय हैं। इसका इस्तेमाल आप आसानी से कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल करने के पहले दिन से ही आपको कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलना शुरू हो जाता है । क्रीमाफिन सिरप बहुत ही अच्छा अंग्रेजी सिरप हैं। इस सिरप का इस्तेमाल मल को सॉफ्ट करने के लिए किया जाता हैं।

सेवन विधि:- क्रीमेफिन सिरप का सेवन रात के समय पानी के साथ किया जाता हैं। इस सिरप का 10ml (एक चम्मच) सेवन हर रोज रात के समय करना चाहिए। यदि 10ml से आपका मल सॉफ्ट नहीं हो रहा है तो आप इसकी सेवन विधि को थोड़ा- सा बढ़ा भी सकते हैं।

दुष्प्रभाव :- क्रीमेफिन सिरप का दुष्प्रभाव मतली और उल्टी होना हैं। ये आमतौर पर हल्के होते हैं और कुछ दिनों के बाद चले जाते हैं। कभी-कभी गंभीर दस्त की समस्या विकसित हो जाती हैं।  अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो इस दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बिना न करें। इसके अलावा आप इस दवा का इस्तेमाल ज्यादा लंबे समय तक लगातार ना करें।

Duphalac syrup :- डुफलैक सिरप का इस्तेमाल भी पेट को साफ करने अर्थात कब्ज को दूर करने के लिए किया जाता हैं। Duphalac syrup के इस्तेमाल से आप आसानी से कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से इस दवा का प्रयोग करें। इस दवा को काम करने में कम से कम 48 घंटे लगते हैं।

सेवन विधि:- डुफलैक सिरप का सेवन भोजन के साथ या उसके बिना भी किया जा सकता है।डुफलैक सिरप 5 – 15ml के बीच इसका सेवन उम्र के हिसाब से अलग-अलग प्रकार से कर सकते हैं। डुफलैक सिरप का सेवन पानी के साथ किया जाता हैं। इस दवा का सेवन दिन में एक ही बार करें।

दुष्प्रभाव :- सबसे आम दुष्प्रभाव मतली और उल्टी हैं। ये आमतौर पर हल्के होते हैं और कुछ दिनों के बाद चले जाते हैं। कभी-कभी गंभीर दस्त और इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन सहित गंभीर दुष्प्रभाव विकसित हो जाते हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो इस दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बिना न करें।

Gudlax plus syrup :- गुडलैक्स प्लस सिरप का इस्तेमाल कब्ज का इलाज करने के लिए किया जाता हैं। कब्ज में मल त्याग करने में परेशानी उत्पन्न होती है क्योंकि इसमें मल अक्सर सूखा, हो जाता हैं। गुडलैक्स प्लस सिरप कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है। गुडलैक्स प्लस सिरप तीन दवाओं का एक संयोजन है, जिसका नाम है: सोडियम पिकोसल्फेट, मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड और तरल पैराफिन । 
1)सोडियम पिकोसल्फेट कोलोनिक लुमेन में पानी के अवशोषण को रोकने का काम करता है। जिससे पानी के संचय को बढ़ावा मिलता है। 

2)मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड आंत में पानी खींचकर आंत में पानी की ढाल को बढ़ाने का काम करता है, जिससे मल त्याग करने में मदद मिलती है।

3) तरल पैराफिन आंतों को चिकनाई देकर मल को नरम करता है।

सेवन विधि : – गुडलैक्स प्लस सिरप का उपयोग पैक द्वारा प्रदान किए गए मापने वाले कप का उपयोग करके निर्धारित खुराक / मात्रा मुंह से लें। इसका सेवन आप खाना खाने से पहले या खाना खाने के बाद कभी भी कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल 7 दिनों से ज्यादा समय तक बिना डॉक्टर की सलाह के न करें।

दुष्प्रभाव :- Gudlax plus syrup के कई प्रकार की दुष्प्रभाव होते हैं। हालांकि हर कोई इसका अनुभव नहीं करता हैं जैसे कि दस्त, पेट में दर्द या ऐंठन इत्यादि। लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। लेकिन आमतौर पर यह हल्के लक्षण होते हैं, और कुछ दिनों के बाद चले जाते हैं। यदि ऐसा नहीं होता है तो आप डॉक्टर से बातचीत करें। और यदि आप गर्भवती हैं तो इस दवा का इस्तेमाल करने से पूर्व डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें ।

अतः ऐसे कई प्रकार के पेट साफ करने के अंग्रेजी सिरप मार्केट में उपलब्ध हैं। जिसका इस्तेमाल करके आप आसानी से कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

पेट साफ करने की आयुर्वेदिक दवा।

pet saaf karne ki ayurvedic dawa : दोस्तों, आज हम आपको पेट साफ करने की आयुर्वेदिक दवा के बारे में बताएंगे। यदि आप इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी के माध्यम से आसानी से जान सकते हैं। कि पेट साफ करने की आयुर्वेदिक दवा के बारे में।

पेट साफ न होने के कारण कई प्रकार की बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं। पेट साफ न होने की समस्या से कई लोग परेशान रहते हैं। ऐसे में पेट साफ करने की आयुर्वेदिक दवा के इलाज के बारे में जानना चाहते है। इस पोस्ट में पेट साफ करने का आयुर्वेदिक दवा (Pet saaf karne ki ayurvedic dawa) के बारे में बताया गया हैं। तो आइए जानते हैं, पेट साफ न होने की समस्या से छुटकारा किस प्रकार से मिल सकता हैं इसके बारे में संपूर्ण जानकारी  ।

खाना ठीक तरीके से ना पचने के कारण  कब्ज की समस्या उत्पन्न होती हैं, जिसके कारण पेट साफ नहीं हो पाता। इसके अलावा कुछ लोगों को मल त्याग में तेज दर्द और रुकावट का सामना करना पड़ता हैं। जिसके कारण टॉयलेट में देर तक बैठने के बाद भी संतुष्टि नहीं मिलती। यह समस्या खानपान सही तरीके से न करने की वजह से होती हैं। परंतु यदि लंबे समय से आप इस समस्या से परेशान हैं तो इस पर सही समय पर ध्यान ना देने से  अन्य कई बीमारियां भी उत्पन्न होती हैं। जैसे-चेहरे पर मुहांसे, पेट का कैंसर,  बवासीर आदि। इसीलिए इस पोस्ट में पेट साफ करने की आयुर्वेदिक दवा के बारे में जानकारी बताई गई हैं। जिसमें पेट साफ करने की आयुर्वेदिक जडीबुटी और पेट साफ करने की पतंजलि दवा शामिल हैं। जिसकी मदद से कब्ज और पेट साफ ना होने की समस्या को दूर किया जा सकता है। 

1) सौंफ।
कब्ज से जूझ रहे लोगों के लिए सौंफ काफी फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए रात में सोने से पहले 1 चम्मच भुनी हुई सौंफ लें। इस सौंफ के साथ 1 गिलास गर्म पानी का सेवन करें। इससे आपको काफी आराम महसूस हो सकता है। कब्ज के अलावा सौंफ गैस की समस्या के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होती हैं।

2) अलसी 

कब्ज और गैस से राहत दिलाने के लिए अलसी का बीज भी काफी फायदेमंद होता हैं। इसका रात को सोने से पहले 1 चम्मच सेवन करें। इससे आपको काफी आराम मिलेगा। 

3) मुनक्का
आयुर्वेद में मुनक्का का खास महत्व होता है। मुनक्का के सेवन से शरीर में आयरन की कमी दूर की जा सकता है। इससे आपका ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। अगर आपको कब्ज की शिकायत है, तो मुनक्के का सेवन करेँ। मुनक्का का सेवन करने के लिए लगभग 8-10 ग्राम मुनक्का लें। इसे रातभर पानी में भिगाकर छोड़ दें। सुबह इसके बीजों को निकालकर इसे गुनगुने दूध के साथ खाएं। इससे कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।  और इसके अलावा मुनक्का गैस समस्या को भी खत्म करता हैं।

4)अरंडी का तेल 
कब्ज की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए आप सोते समय अरंडी के तेल का सेवन करें। इससे आपको काफी फायदा होगा। इसके लिए 1 गिलास गर्म दूध लें। इसमें करीब 1 से 2 चम्मच अरंडी का तेल डालें। इससे आपकी कब्ज की परेशानी दूर होगी। 

5) जीरा और अजवायन ।

कब्ज की परेशानी होने पर जीरा और अजवाइन का सेवन करें। इसके लिए जीरा और अजवाइन को धीमी आंच कर कुछ मिनटों के लिए भूनें। इसके बाद बराबर मात्रा में काला नमक मिक्स कर लें। रोजाना 1 गिलास गुनगुने पानी के साथ इसका सेवन करने से कब्ज (बदहजमी) और गैस की परेशानी से छुटकारा मिल सकता है।  इसके अलावा अजवाइन गैस की समस्या को भी खत्म करती हैं।

6) त्रिफला चूर्ण।
कब्ज, गैस और बदहजमी से राहत दिलाने में त्रिफला चूर्ण बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके लिए रात में सोने से पहले गर्म पानी के साथ 1 चम्मच त्रिफला चूर्ण का सेवन करें। इससे पुरानी से पुरानी कब्ज की परेशानी से छुटकारा मिल सकता है। 

7) मुलेठी
कब्ज और गैस से राहत पाने के लिए मुलेठी का सेवन किया जा सकता है। इसका सेवन करने के लिए 1 चम्मच मुलेठी का चूर्ण लें। अब इसमें 1 चम्मच गुड़ मिलाकर इसका सेवन करें। इससे कब्ज की समस्या में काफी हद तक आराम मिलेगा। 

8)पुदीना

कबड्डी कब्ज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए छुटकारा पाने के लिए पुदीने का भी इस्तेमाल कर सकते हैं पुदीने की पत्तियों का रस निकालकर रोज सुबह एक कप उड़ने का रस पीने से कब्ज की समस्या दूर होती है

9) इसबगोल

इसबगोल का उपयोग कब्ज से राहत दिलाने के लिए काम में लिया जाता हैं। इसबगोल का इस्तेमाल आप रात को सोने से पूर्व एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच इसबगोल मिलाकर इसका सेवन करें। ऐसा करने से कब्ज की समस्या में आराम मिलता हैं।

10) गुड

गुड़ का सेवन करने से भी कब्ज की समस्या दूर होती हैं। यदि आप कब्ज की समस्या से परेशान हैं, तो आप रोज सुबह – शाम थोड़ी-थोड़ी मात्रा में इसका सेवन करें । ऐसा करने से भी आपकी कब्ज की समस्या दूर होगी।

कब्ज तथा गैस की परेशानी को दूर करने के लिए आप इन उपायों का इस्तेमाल करके कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं ,और यदि आपकी कब्ज की समस्या अधिक बढ़ गई है। तो आप डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हैं ।

इनको भी पढ़े :-

पेट साफ करने का सिरप। pet saaf karne ka syrup.

pet saaf karne ki syrup: दोस्तों, आज हम आपको पेट साफ करने का सिरप(pet saaf karne ka syrup) के बारे में बताएंगे । यदि आप इसके के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप हमारे द्वारा लिखे इस लेख के माध्यम से आसानी से जान सकते हैं, कि pet saaf karne ke liye syrup कौन से हैं। जिसका इस्तेमाल करके पेट साफ न होने की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता हैं, तो आइए जानते हैं pet saaf karne ki syrup के बारे में ।

सॉफ्टेक प्लस सिरप :- हालांकि इस सिरप का इस्तेमाल कब्ज के लिए किया जाता हैं। सॉफ्टेक प्लस सिरप दवा का इस्तेमाल कब्ज के इलाज के लिए किया जाता हैं। यह दवा पानी को सोखती है, इसलिए मल मुलायम हो जाता है और उसे पास करना आसान हो जाता हैं। यह गैस को आसानी से बाहर निकालने में भी मदद करती हैं।

सॉफ्टेक प्लस सिरप को डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह के अनुसार खुराक और अवधि के अनुरूप भोजन के साथ या बिना भोजन के भी लिया जाता हैं। दवा की डोज़ आपकी कंडीशन और दवा के प्रति आपके शरीर में होने वाले रिसपॉन्स पर निर्भर करेगी। डॉक्टर द्वारा निर्धारित अवधि तक इस दवा का सेवन जारी रखें। अगर आप इलाज को जल्दी रोकते हैं, तो आपके लक्षण वापस आ सकते हैं। और आपकी स्थिति वापस से खराब हो सकती हैं।

दुष्प्रभाव:- सबसे सामान्य साइड इफेक्ट डायरिया (दस्त), और पेट में दर्द हैं। इनमें से अधिकांश अस्थायी होते हैं। आमतौर पर यह समय के साथ सही हो जाते हैं। लेकिन यदि आपको यह समस्या ज्यादा समय तक बनी रहती हो तो आप डॉक्टर से बात करें।

इस दवा को लेने से पहले, अगर आप गर्भवती हैं, स्तनपान करा रही हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। अगर आपको लिवर का कोई रोग हैं, तो भी आपको अपने डॉक्टर को बताना चाहिए। ताकि आपके डॉक्टर आपके लिए उपयुक्त
सुझाव दे सकें।

Duphalac syrup :- डुफलैक सिरप का इस्तेमाल भी पेट को साफ करने अर्थात कब्ज को दूर करने के लिए किया जाता हैं। Duphalac syrup के इस्तेमाल से आप आसानी से कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से इस दवा का प्रयोग करें। इस दवा को काम करने में कम से कम 48 घंटे लगते हैं।

सेवन विधि:- डुफलैक सिरप का सेवन भोजन के साथ या उसके बिना भी किया जा सकता है।डुफलैक सिरप 5 – 15ml के बीच इसका सेवन उम्र के हिसाब से अलग-अलग प्रकार से कर सकते हैं। डुफलैक सिरप का सेवन पानी के साथ किया जाता हैं। इस दवा का सेवन दिन में एक ही बार करें।

दुष्प्रभाव :- सबसे आम दुष्प्रभाव मतली और उल्टी हैं। ये आमतौर पर हल्के होते हैं और कुछ दिनों के बाद चले जाते हैं। कभी-कभी गंभीर दस्त और इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन सहित गंभीर दुष्प्रभाव विकसित हो जाते हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो इस दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बिना न करें।

गैस्ट्रिक किल  :- इस दवा का इस्तेमाल पेट सुबह सुबह साफ नहीं हुआ हो, अम्लता, पेट में दर्द, अपच को ठीक करने के लिए किया जाता है ।

सेवन विधि:- गैस्ट्रिक जेल सिरप की खुराक डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह के अनुसार भोजन के साथ लिया जाता हैं। दवा की डोज़ आपकी कंडीशन और दवा के प्रति आपके शरीर में होने वाले रिसपॉन्स पर निर्भर करेगी। डॉक्टर द्वारा निर्धारित अवधि तक इस दवा का सेवन जारी रखें। अगर आप इलाज को जल्दी रोकते हैं, तो आपके लक्षण वापस आ सकते हैं। और आपकी स्थिति वापस से खराब हो सकती हैं।

दुष्प्रभाव:- सबसे सामान्य साइड इफेक्ट डायरिया (दस्त), और पेट में दर्द हैं। इनमें से अधिकांश अस्थायी होते हैं। आमतौर पर यह समय के साथ सही हो जाते हैं। लेकिन यदि आपको यह समस्या ज्यादा समय तक बनी रहती हो तो आप डॉक्टर से सलाह लें।

लूज़ सिरप :- लूज़ सिरप दवा का इस्तेमाल कब्ज का इलाज करने के लिए किया जाता हैं। यह आपकी आंतों में पानी डालकर आपके मलत्याग को आसान बनाता हैं।

सेवन विधि:- लूज़ सिरप को भोजन के साथ या भोजन के बिना लिया जा सकता हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से इस दवा का इस्तेमाल करें और रोज एक ही समय पर लेने की कोशिश करें। और यदि आपकी कोई डोज़ छूट जाती है, तो उसकी भरपाई करने के लिए एक और डोज़ न लें।

दुष्प्रभाव:- सबसे सामान्य साइड इफेक्ट मिचली, और उल्टी होना होता हैं। ये आमतौर पर हल्के होते हैं और कुछ दिनों बाद चले जाते हैं। कभी-कभी लोगों को गंभीर डायरिया (दस्त) सहित अन्य गंभीर साइड इफेक्ट हो जाते हैं। अगर आपको इनमें से कुछ भी महसूस होता है, तो तुरंत अपने डॉक्टर को परामर्श लें। अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान करवा रही हैं ,तो अपने डॉक्टर से बातचीत करने के बाद ही इस दवा का इस्तेमाल करें।

तुरंत पेट साफ करने की दवा।

दोस्तों ,आज हम आपको तुरंत पेट साफ करने की दवा के बारे में बताएंगे। यदि आप इस दवा के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप नीचे दी गई जानकारी को पूरा लास्ट तक जरूर पढ़ें । तो चलिए जानते हैं, तुरंत पेट साफ करने की दवा के बारे में।

पेट साफ न होना यानी मल ना आना या फिर पूरी तरह मल साफ न होना कब्ज से होने वाली एक बड़ी समस्या है। कब्ज एक ऐसी समस्या हैं जो सुबह उठते ही पेट ठीक प्रकार से साफ ना होने पर पेट में गैस और मरोड़ अाने जैसी समस्या होने लगती है। नियमित रूप से बाथरूम में नहीं जाने से आपका मल कठोर हो सकते हैं और आपकी आंतों की गति धीमी हो सकती है। और पेट साफ नहीं हो पाता हैं।

कब्ज व्यक्ति के शरीर पर काफी स्वास्थ्य पर गंभीर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है | कब्ज को दूर करने के कई प्राकृतिक तरीके हैं। कब्ज से छुटकारा पाने के लिए कुछ लोग पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा लेते है पर हम बिना अंग्रेजी मेडिसिन के तुरंत पेट साफ करने की दवा के बारे में बताएंगे। तो चलिए देखते हैं, तुरंत पेट साफ करने की दवा के बारे में।

  • आलूबुखारा

रोजाना चार से पांच आलूबुखारा आपकी पाचन प्रणाली को बेहतर बनाता है और एंटीऑक्सीडेंट के स्तर को बढ़ाता है। आलूबुखारा से आँतों की प्रणाली में तरल पदार्थ बनता है, जिससे मल त्यागने में आसानी होती है।

  • सेब

अगर आपको कभी भी कब्ज की समस्या होती हैं, तो सेब में मौजूद फाइबर कब्ज की समस्या में मदद करता है। सेब विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। इसके अलावा सेब खाने से आपका पेट हमेशा साफ रहेगा।

  • गर्म पानी

गर्म पानी पेट को साफ करता है, यह मेटाबोलिज्म को बढ़ाता हैं। और सभी विषाक्त पदार्थों को साफ करता है। गर्म पानी पाचन प्रणाली को बेहतर बनाता है। इसके साथ ही पेट को साफ करने में भी मदद करता है। इसके अलावा रोज़ 8 से 10 ग्लास पानी ज़रूर पीयें, इससे आपका शरीर हाइड्रेट रहेगा और मल त्यागने में भी आसानी होगी।

  • पुदीना

पुदीना (पेट साफ) बदहजमी को ठीक करने में मदद करता है और पेट को साफ़ करता है।

पुदीने की पत्तियों की या तो आप चाय पी सकते हैं या फिर इसकी चटनी बनाकर खा सकते हैं। पुदीने को आप अपने खाने में भी डालकर खा सकते हैं।

  • सौंफ

सौफ और सफ़ेद जीरा पाउडर लें और उन्हें तवे पर भून लें। इस मिश्रण को पूरे दिन में आधा चम्मच ज़रूर लें। सौफ और सफ़ेद जीरा पाउडर के मिश्रण को हर तीन से चार घंटे बाद ले सकते हैं।

  • शहद और नींबू

पेट को साफ रखने के लिए, एक चम्मच शहद, एक चम्मच नींबू जूस और एक चम्मच अदरक के जूस को एक साथ मिला लें। फिर इस मिश्रण को पीयें। बदहजमी को खत्म करने के लिए आप इस मिश्रण को पूरे दिन में दो से तीन बार ज़रूर लें।

  • इसबगोल

इसबगोल की भूसी का सेवन पेट को साफ करने का बेहद अच्छा उपाय है। हर रोज एक चम्मच इसबगोल को एक गिलास दूध में डालकर रोज रात को सोने से पहले इसका सेवन करें।

  • अदरक

अदरक, पुदीने का मिश्रण पाचन क्रिया के लिए बेहद अच्छा होता है। इस मिश्रण को दस मिनट तक गर्म पानी में उबालना है, फिर छान लें और छानने के बाद पी लें । इस मिश्रण को पूरे दिन में दो बार ज़रूर पीयें। इस मिश्रण को खासतौर पर खाना खाने के बाद पीयें।

  • नींबू

नींबू के रस का इस्तेमाल भी आप खाने के साथ में कर सकते हैं। नींबू में मौजूद एन्ज़ाइम्स पाचन प्रणाली से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता हैं, और पाचन क्रिया बेहतर बनाता हैं। जिससे की कब्ज की समस्या दूर होती हैं ।

पेट साफ होने के आयुर्वेदिक उपाय।

दोस्तों आज हम आपको पेट साफ होने के आयुर्वेदिक उपाय के बारे में बताएंगे। यदि आप पेट साफ होने के आयुर्वेदिक उपाय के बारे में जानना चाहते हैं। तो आप किस प्रकार से आयुर्वेदिक उपाय का इस्तेमाल करके पेट को साफ कर सकते हैं, आइए जानते हैं, पेट साफ होने के आयुर्वेदिक उपायों के बारे में।

आज के इस समय में भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण समय पर खानपान नहीं करने की वजह से पेट से संबंधित कई प्रकार की समस्याएं होने लगती हैं। जैसे कि गैस, बदहजमी, पेट दर्द आदि। इन सबके अलावा एक और समस्या जिससे हर रोज़ सुबह सामना करना पड़ता हैं, वह हैं पेट का साफ न होना। कुछ लोग पेट साफ करने के लिए चूर्ण का सहारा लेते हैं या फिर कई तरह की अंग्रेजी दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं लेकिन उससे भी कोई इलाज नहीं होता।

लेकिन आज हम आपको पेट साफ करने के कुछ ऐसे बेहतरीन उपाय बताएंगे जिसकी मदद से आप आसानी से पेट को साफ कर सकते हैं तो आइए जानते हैं, पेट साफ होने के आयुर्वेदिक उपाय के बारे में।

  • पतंजलि दिव्य चूर्ण।

पतंजलि दवा बाबा रामदेव के अनुसार पतंजलि कब्ज चूर्ण, पतंजलि दिव्य चूर्ण और दिव्य गैसहर चूर्ण जो कि कब्ज के इलाज में असरदार होते हैं।

  • जीरा ।

पेट साफ करने वाले आयुर्वेदिक उपायों में से एक हैं जीरा । एक ग्लास पानी लें और एक चम्मच जीरे को उसमे डाल दें। फिर मिश्रण को उबलने के लिए रख दें और उबलने के बाद मिश्रण को गर्म-गर्म पी लें। इस मिश्रण को पूरे दिन में दो से तीन बार पांच से छः दिन के लिए पीयें। काला जीरा एसिडिटी को भी ठीक करने में मदद करता हैं, साथ ही इससे पेट भी अच्छे से साफ होता हैं।

  • कायम चूर्ण।

तुरंत पेट साफ करने के लिए कायम चूर्ण अर्थात पेट सफा चूर्ण का सेवन करें। कब्ज से राहत पाने और पेट के रोग दूर करने में ये काफी फायदेमंद होता है। गुनगुने दूध के साथ 1 चम्मच रात को सोने से पहले लेने पर अगली सुबह खुल कर पेट साफ हो जाएगा।

  • त्रिफला चूर्ण ।

त्रिफला चूर्ण मल साफ ना होने की समस्या को दूर करने के लिए त्रिफला चूर्ण एक रामबाण दवा है। रोजाना त्रिफला का सेवन करने पर कब्ज से छुटकारा मिलता है।

  • होम्योपैथिक दवा।

तुरंत पेट साफ करने की दवा में होम्योपैथिक दवा भी कब्ज के रोग को खत्म करने में मदद करती है। Silicea 200 नाम की homeopathic medicine की 3 बूंदे 10 मिनट के अंतराल में दिन में 3 बार ले। इस दवा के इस्तेमाल से भी तुरंत पेट साफ होता हैं।

  • आयुर्वेदिक दवा ।

पेट साफ करने की दवा आयुर्वेदिक Pet saffa churan और kayam churna टेबलेट के रूप में भी उपलब्ध है। चूर्ण की जगह गोली का सेवन करना थोड़ा आसान होता है। रात को सोने से पहले इसकी 1 गोली ले और अगर कब्ज पुरानी है या गंभीर है तो 2 गोली ले सकते है। ऐसा करने से अगली सुबह तुरंत पेट साफ हो जाता हैं।

  • गुनगुना पानी।

तुरंत पेट साफ करने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करना भी एक अच्छा उपाय है। यदि आप हर रोज सुबह एक से दो गिलास गुनगुने पानी का इस्तेमाल करती हैं, तो इससे कुछ ही देर में मल साफ हो जाएगा।

हरड़,आंवला, बहेड़ा ।

छोटी व बड़ी हरड़ 100-100 ग्राम, आंवला 100 ग्राम और बहेड़ा 100 ग्राम ले। अब इन सभी को मिला ले और पीस कर चूर्ण बना ले। जब भी कब्ज की समस्या हो इस चूर्ण का सेवन करें जल्दी राहत मिलेगी।

पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा सिरप।

दोस्तों अब हम आपको पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा सिरप के बारे में बताएंगे यदि आप इसके बारे में जानना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी को पूरा लास्ट तक जरूर पढ़ें। तो चलिए जानते हैं पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा सिरप के बारे में।

1) Duphalac syrup :- डुफलैक सिरप का इस्तेमाल भी पेट को साफ करने अर्थात कब्ज को दूर करने के लिए किया जाता हैं। Duphalac syrup के इस्तेमाल से आप आसानी से कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से इस दवा का प्रयोग करें। इस दवा को काम करने में कम से कम 48 घंटे लगते हैं।

सेवन विधि:- डुफलैक सिरप का सेवन भोजन के साथ या उसके बिना भी किया जा सकता है।डुफलैक सिरप 5 – 15ml के बीच इसका सेवन उम्र के हिसाब से अलग-अलग प्रकार से कर सकते हैं। डुफलैक सिरप का सेवन पानी के साथ किया जाता हैं। इस दवा का सेवन दिन में एक ही बार करें।

दुष्प्रभाव :- सबसे आम दुष्प्रभाव मतली और उल्टी हैं। ये आमतौर पर हल्के होते हैं और कुछ दिनों के बाद चले जाते हैं। कभी-कभी गंभीर दस्त और इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन सहित गंभीर दुष्प्रभाव विकसित हो जाते हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो इस दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बिना न करें।

2) लूज़ सिरप :- लूज़ सिरप दवा का इस्तेमाल कब्ज का इलाज करने के लिए किया जाता हैं। यह आपकी आंतों में पानी डालकर आपके मलत्याग को आसान बनाता हैं।

सेवन विधि:- लूज़ सिरप को भोजन के साथ या भोजन के बिना लिया जा सकता हैं। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए नियमित रूप से इस दवा का इस्तेमाल करें और रोज एक ही समय पर लेने की कोशिश करें। और यदि आपकी कोई डोज़ छूट जाती है, तो उसकी भरपाई करने के लिए एक और डोज़ न लें।

दुष्प्रभाव:- सबसे सामान्य साइड इफेक्ट मिचली, और उल्टी होना होता हैं। ये आमतौर पर हल्के होते हैं और कुछ दिनों बाद चले जाते हैं। कभी-कभी लोगों को गंभीर डायरिया (दस्त) सहित अन्य गंभीर साइड इफेक्ट हो जाते हैं। अगर आपको इनमें से कुछ भी महसूस होता है, तो तुरंत अपने डॉक्टर को परामर्श लें। अगर आप गर्भवती हैं या स्तनपान करवा रही हैं ,तो अपने डॉक्टर से बातचीत करने के बाद ही इस दवा का इस्तेमाल करें।

3) गैस्ट्रिक किल  :-इस दवा का इस्तेमाल पेट सुबह सुबह साफ नहीं हुआ हो, अम्लता, पेट में दर्द, अपच को ठीक करने के लिए किया जाता है ।

सेवन विधि:- गैस्ट्रिक जेल सिरप की खुराक डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह के अनुसार भोजन के साथ लिया जाता हैं। दवा की डोज़ आपकी कंडीशन और दवा के प्रति आपके शरीर में होने वाले रिसपॉन्स पर निर्भर करेगी। डॉक्टर द्वारा निर्धारित अवधि तक इस दवा का सेवन जारी रखें। अगर आप इलाज को जल्दी रोकते हैं, तो आपके लक्षण वापस आ सकते हैं। और आपकी स्थिति वापस से खराब हो सकती हैं।

दुष्प्रभाव:- सबसे सामान्य साइड इफेक्ट डायरिया (दस्त), और पेट में दर्द हैं। इनमें से अधिकांश अस्थायी होते हैं। आमतौर पर यह समय के साथ सही हो जाते हैं। लेकिन यदि आपको यह समस्या ज्यादा समय तक बनी रहती हो तो आप डॉक्टर से सलाह लें।

4) Laxoclear – लक्सोक्लियर सिरप, दवा कब्ज के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा होती हैं। कब्ज तब होता है जब मल त्याग बार-बार कम हो जाता है, और मल का निकलना मुश्किल हो जाता है। यह आंतों को साफ करने में आपकी मदद करती हैं। यह आंत में मूवमेंट बढ़ाकर कब्ज से राहत प्रदान करता हैं। कब्ज अधिक एक आम समस्या हैं, यह आहार, तनाव, ऊर्जा की कमी या अन्य अस्थायी कारणों से प्रभावित हो जाता है।

सेवन विधि:- लक्सोक्लियर सिरप को डॉक्टर द्वारा दी गई सलाह के अनुसार खुराक और अवधि के अनुरूप भोजन के साथ या बिना भोजन भी लिया जा जाता हैं। दवा की डोज़ आपकी कंडीशन और दवा के प्रति आपके शरीर में होने वाले रिसपॉन्स पर निर्भर करेगी। डॉक्टर द्वारा निर्धारित अवधि तक इस दवा का सेवन जारी रखें।

दुष्प्रभाव:- लक्सोक्लियर सिरपडायरिया के दुष्प्रभाव जैसे कि अधिक पतले दस्त, और पेट में दर्द, ऐंठन होना हैं। इनमें से अधिकांश अस्थायी होते हैं। आमतौर पर यह समय के साथ सही हो जाते हैं। लेकिन यदि आपको यह समस्या ज्यादा लंबे समय तक बनी रहती हो तो आप डॉक्टर से सलाह लें।

कब्ज का परमानेंट इलाज क्या है ?

कब्ज का परमानेंट इलाज : दोस्तों, अब हम आपको कब्ज का परमानेंट इलाज क्या है ? इसके बारे में बताएगें। यदि आप कब्ज का परमानेंट इलाज जानना चाहते हैं, तो आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी के माध्यम से आसानी से कब्ज का परमानेंट इलाज जान सकते हैं।

यदि आप कब्ज का परमानेंट इलाज करना चाहते हैं तो आप अधिक मात्रा में पानी का सेवन करें। तथा गर्म पानी पीने से ज्यादा फ़ायदा होता हैं। पानी की कमी से आंतों में मल सूख जाता है और मल निष्कासन में जोर लगाना पडता हैं। इसलिये कब्ज से परेशान रोगियों के लिये सर्वोत्तम सलाह यह है कि 24 घंटे में 3 से 7 लीटर पानी पीना चाहिये और यदि एक नार्मल आदमी भी इतना पानी रोज पिए तो इससे कभी भी कब्ज होगी ही नहीं।
इसके अलावा सुबह उठते ही 1 लिटर पानी पीयें।और फ़िर मॉर्निंग वाक (पैदल चले) ऐसा करने से धीरे-धीरे कब्ज की समस्या का जड़ से इलाज हो जाएगा।

  • मेथी दाना।

मेथी दानें को हल्की आंच पर भूनकर रात को 1-2 चम्मच खाने से सुबह पेट अच्छे तरीके से साफ़ होता है | मेथी के दानों को बिना भूने हुए खाने से इसका उल्टा फायदा मिलता है मतलब अगर दस्त हो रही हो तो कच्ची मेथी खाने से दस्त बंद हो जाती है |

  • तरल पदार्थों का सेवन।

कब्ज के पुराने रोगी को तरल पदार्थ आसानी से पच जाते हैं जैसे- दलिया, खिचड़ी इत्यादि अधिक मात्रा में खाना चाहिए।

  • हरी पत्तेदार सब्जियों,फल।

हरी सब्जियां, फल जैसे:- टमाटर, पपीता, अंगूर, गन्ना, अमरूद, पालक का रस या कच्चा पालक, चुकंदर, अंजीर फल, किशमिश को पानी में भिगोकर खाने, रात को मुनक्का खाने से कब्ज दूर करने में मदद मिलती हैं। इसके अलावा खाने में हरी पत्तेदार सब्जियों के अलावा रेशेदार सब्जियों का सेवन खासतौर पर करना चाहिए।

  • दूध और सेब।

दो सेब रोज खाने से या केला गर्म दूध के साथ रोज लेने से कब्ज में लाभ होता हैं।

  • गर्म दूध और घी।

गर्म पानी और गर्म दूध कब्ज दूर करते हैं । रात को गर्म दूध में देशी गाय का घी डालकर पीने से कब्ज दूर होता हैं।

  • दूध और छुवारा।

रात को सोते समय, दूध में 2-3 छुवारे उबाल कर पीने से, सुबह ठीक प्रकार से पेट साफ़ होता हैं।

  • नींबू और गर्म पानी।


नींबू को गर्म पानी में डालकर पीने से कब्ज दूर होती है।

  • गरम पानी


सुबह-सुबह सिर्फ सादा गर्म पानी पीने से भी कब्ज की समस्या दूर करने में मदद मिलती हैं।

  • अलसी का बीज और पानी।

अलसी के बीज का पाउडर पानी के साथ लेने से कब्ज से राहत मिलती हैं।

  • अमरूद और पपीता।

अमरूद और पपीता ये दोनो फ़ल कब्ज रोगी के लिये अमृत के समान है। ये फ़ल दिन मे किसी भी समय खाये जा सकते हैं। इन फ़लों के सेवन से मल आसानी से विसर्जित होता हैं।

  • किशमिश।

सूखे अंगूर यानी किशमिश पानी में 3 घन्टे गलाकर खाने से आंतों को ताकत मिलती है और दस्त आसानी से आती हैं।

  • मुनक्का।

मुनक्का में कब्ज नष्ट करने के गुण हैं। 7 मुनक्का रोजाना रात को सोते वक्त लेने से कब्ज रोग में आराम मिलता हैं।

ध्यान देने योग्य बातें – ये सभी नुस्खे, मानवों पर समान रूप से फायदेमंद हो यह जरूरी नहीं है क्योकि सभी व्यक्तियों की शारीरिक स्थिति अलग- अलग होती हैं। इसलिए जिस व्यक्ति को जिस नुस्खे से अधिक लाभ प्राप्त हो उन्हीं तरीके को अपनाना चाहिए।

तुरंत पेट साफ कैसे करें। turant pet saaf kaise kare.

दोस्तों, आज हम आपको तुरंत पेट साफ कैसे करें। (turant pet saaf kaise kare) इसके बारे में बताइएगें ,यदि आप कब्ज की समस्या से परेशान है, और आप तुरंत पेट साफ करना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी के माध्यम से आसानी से तुरंत पेट साफ कैसे करें( turant pet saaf kaise kare)। इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं, तुरंत पेट साफ कैसे करें (turant pet saaf kaise kare) इसके बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी।

  • सेब का सिरका।

सेब का सिरका सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। यह पेट को साफ करने में भी मदद करता है। इसके लिए बस आप आधे कप पानी में 2 चम्मच सेब का सिरका मिलाकर इसका सेवन करें। इससे आपकी कब्ज की समस्या तुरंत दूर होगी।

  • अजवाइन ।

अजवाइन पेट की समस्या के लिए काफी फायदेमंद होती है। यह तुरंत पेट को साफ करने में मदद करती है। इसके लिए आप अजवाइन के बीजों को भून लें। भूनी अजवाइन को खाना खाने के बाद चबाएं। रोजाना इसका सेवन करने से आपको कब्ज की समस्या से काफी राहत मिलेगी।

  • अंजीर का सेवन।

अंजीर कब्ज की समस्या को दूर करने में कारगर है। इसमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। इसके लिए हल्के गर्म पानी में भीगे हुए अंजीर मिलाकर इसका सेवन करें। इससे तुरंत कब्ज से राहत मिलती हैं।

पेट साफ करने की दव। pet saaf karne ki dawa.

क्या आप जानते हैं, कि पेट साफ करने की दवा के बारे में। यदि आप नहीं जानते हैं, तो आज हम आपको पेट साफ करने की दवा के बारे में बताऐगें। तो आइए जानते हैं, पेट साफ करने की दवा के बारे में।

Gudlax plus syrup :- गुडलैक्स प्लस सिरप का इस्तेमाल कब्ज का इलाज करने के लिए किया जाता हैं। कब्ज में मल त्याग करने में परेशानी उत्पन्न होती है क्योंकि इसमें मल अक्सर सूखा, हो जाता हैं। गुडलैक्स प्लस सिरप कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है। गुडलैक्स प्लस सिरप तीन दवाओं का एक संयोजन है, जिसका नाम है: सोडियम पिकोसल्फेट, मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड और तरल पैराफिन । 


1)सोडियम पिकोसल्फेट कोलोनिक लुमेन में पानी के अवशोषण को रोकने का काम करता है। जिससे पानी के संचय को बढ़ावा मिलता है। 

2)मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड आंत में पानी खींचकर आंत में पानी की ढाल को बढ़ाने का काम करता है, जिससे मल त्याग करने में मदद मिलती है।

3) तरल पैराफिन आंतों को चिकनाई देकर मल को नरम करता है।

2) लूज़ सिरप :- लूज़ सिरप दवा का इस्तेमाल कब्ज का इलाज करने के लिए किया जाता हैं। यह आपकी आंतों में पानी डालकर आपके मलत्याग को आसान बनाता हैं।

3) गैस्ट्रिक किल  :-इस दवा का इस्तेमाल पेट सुबह सुबह साफ नहीं हुआ हो, अम्लता, पेट में दर्द, अपच को ठीक करने के लिए किया जाता है ।

पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा ।

दोस्तों, आज हम आपको पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा के बारे में बताएंगे । यदि आप पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा के बारे में जाना चाहते हैं, तो आप हमारे द्वारा दी गई जानकारी के माध्यम से पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा के बारे में जान सकते हैं। तो चलिए देखते हैं, पेट साफ करने की अंग्रेजी दवा के बारे में।

पेट खराब होने की समस्या मल का न आना या मल का मोटा हो जाना होता हैं।  पेट खराब होने पर मुंह से बदबू आने लगती है, चेहरे पर पिंपल्स निकल आते हैं, इत्यादि कई प्रकार की समस्याएं पेट खराब होने के कारण आने लगती हैं।
ऐसे में हर कोई व्यक्ति है चाहता है कि उसका पेट हर रोज सुबह अच्छे तरीके से साफ हो । इसके लिए वह तरह-तरह की अंग्रेजी, विदेशी व आयुर्वेदिक दवाइयों का इस्तेमाल करता हैं। ताकि उनकी कब्ज की समस्या खत्म हो जाए। यदि आप भी कब्ज की समस्या से ग्रस्त है और आप अंग्रेजी दवा के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप नीचे दी गई अंग्रेजी दवा के नाम जान सकते हैं।

1)लैक्स 10mg

2)कैस्टोफीन

3) जू 10mg टैबलेट

4)दुल्को एक 10mg टैबलेट

5)इगल

6)हरीतकी टेबलेट्स।

pet saaf karne ki vidhi.

दोस्तों ,यदि आप पेट साफ करने की विधि(pet saaf karne ki vidhi) के बारे में जानना चाहते हैं। तो आप नीचे दी गई जानकारी के माध्यम से पेट साफ करने की विधि( pet saaf karne ki vidhi) के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं, पेट साफ करने की विधि( pet saaf karne ki vidhi) के बारे में।

सुबह पेट साफ न होने से पूरा दिन मूड खराब रहता हैं, और किसी काम में दिल भी नहीं लगता। पेट साफ न होने की खास वजह से कई प्रकार के रोग से व्यक्ति व्यस्त हो जाता है। यदि आपको भी कब्‍ज है तो आप सुबह-सुबह पेट साफ करने के लिए आप क्या खाएं, क्या पिए जिससे कि आपकी कब्ज की परेशानी दूर हो जाए। क्योंकि पेट साफ न होने से गैस और दूसरी समस्याएं भी परेशान करती हैं। तो आज हम जानेंगे की इस समस्या से जल्द निजात कैसे पा सकते हैं।

  • गुनगुना पानी।

पाचन क्रिया को ठीक करने के लिए पानी बहुत ही जरूरी है। इसलिए दिनभर में 8-10 ग्लास पानी जरूर पिएं। गुनगुना पानी मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है और साथ ही यह बॉडी से टॉक्सिंस को भी बाहर निकालता है। तो सुबह उठकर सबसे पहले खाली पेट गुनगुना पानी पिएं। इससे पेट साफ होता है।

  • एलोवेरा।

सुबह-सुबह पेट साफ करने में एलोवेरा बेहद उपयोगी होता है। एलोवेरा का जूस पेट साफ करने के साथ कब्ज से भी राहत दिलाता है। सुबह उठने के बाद पेट साफ करने के लिए एलोवेरा का जूस पिएं। जो पेट के साथ त्वचा की समस्याओं से भी राहत दिलाता है।

  • नींबू और शहद।

गुनगुने पानी में नींबू और शहद मिलाकर पीने से पेट साफ होता है साथ ही फैट भी कम होता हैं।

दूध और सेब।

दो सेब रोज खाने से या केला गर्म दूध के साथ रोज लेने से कब्ज में लाभ होता हैं।

पेट साफ होने की दवा। pet saaf hone ki dawa.

दोस्तों, आज हम आपको पेट साफ होने की दवा के बारे में बताएंगे। यदि आप पेट साफ होने की दवा के बारे में जाना चाहते हैं, तो आप इस लेख के माध्यम से पेट साफ होने की दवा के बारे में आसानी से जान सकते हैं, तो चलिए जानते हैं। पेट साफ होने की दवा के बारे में।

  • तरल पदार्थों का सेवन।

कब्ज के पुराने रोगी को तरल पदार्थ आसानी से पच जाते हैं जैसे- दलिया, खिचड़ी इत्यादि अधिक मात्रा में खाना चाहिए।

  • हरी पत्तेदार सब्जियों,फल।

हरी सब्जियां, फल जैसे:- टमाटर, पपीता, अंगूर, गन्ना, अमरूद, पालक का रस या कच्चा पालक, चुकंदर, अंजीर फल, किशमिश को पानी में भिगोकर खाने, रात को मुनक्का खाने से कब्ज दूर करने में मदद मिलती हैं। इसके अलावा खाने में हरी पत्तेदार सब्जियों के अलावा रेशेदार सब्जियों का सेवन खासतौर पर करना चाहिए।

  • गर्म दूध और घी।

गर्म पानी और गर्म दूध कब्ज दूर करते हैं । रात को गर्म दूध में देशी गाय का घी डालकर पीने से कब्ज दूर होता हैं।

  • दूध और छुवारा।

रात को सोते समय, दूध में 2-3 छुवारे उबाल कर पीने से, सुबह ठीक प्रकार से पेट साफ़ होता हैं।

  • नींबू और गर्म पानी।


नींबू को गर्म पानी में डालकर पीने से कब्ज दूर होती है।

  • गरम पानी


सुबह-सुबह सिर्फ सादा गर्म पानी पीने से भी कब्ज की समस्या दूर करने में मदद मिलती हैं। गरम पानी कब्ज की समस्या के लिए दवा की तरह काम करता हैं।